दिन व्यापारी रणनीतियाँ

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है
इन बातों का रखें विशेष ध्यान

कोटक सिक्योरिटीज ने ब्रोकरेज फ्री इंट्रा-डे ट्रेडिंग लॉन्च किया, जानिए क्या है खास

शेयर खरीद-फरोख्त के बाजार में ब्रोकरेज पर छूट को लेकर छिड़ी जंग के बीच कोटक सिक्योरिटीज (Kotak Securities) ने इंट्राडे ट्रेडिंग (intraday trading) यानी दिन-दिन के कारोबार में ब्रोकरेज शुल्क (Zero इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है Brokerage) नहीं लेने की घोषणा की है। बाकी सभी तरह के कारोबार के लिए कंपनी ग्राहकों से 20 रुपये प्रति लेन-देन शुल्क लेगी। कोटक सिक्योरिटीज इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है ने इंट्राडे ट्रेडिंग करने पर ब्रोकरेज शुल्क नहीं लेने की गुरुवार को घोषणा की।

कंपनी ने एक बयान में कहा कि अन्य सभी तरह के कारोबार के लिए ग्राहकों को 20 रुपये प्रति लेनदेन का शुल्क देना होगा। इस तरह के लेनदेन और अन्य किसी उत्पाद की खरीद-फरोख्त से कंपनी अपनी आय करेगी। इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है कंपनी का ग्राहक रिसर्च बताता है कि उन्हें इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है सस्ते ब्रोकरेज वाली सेवाएं चाहिए। इसी को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने 499 रुपये के अग्रिम भुगतान वाली सर्विस पेश की। इसके तहत यदि ग्राहक सेवा शुल्क चुकाने के बाद पहले महीने में संतुष्ट नहीं रहता है तो उसे 499 रुपये का पूरा भुगतान वापस कर दिया जाएगा।

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है

Zerodha इक्विटी डिलीवरी ट्रेड के लिए ब्रोकरेज चार्ज नहीं किया जाता है , और हमारे यहाँ डिलीवरी ब्रोकरेज zero है। लेकिन यदि आपने इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है CNC प्रोडक्ट कोड में शेयर्स ख़रीदे है और उनको उसी दिन मार्केट बंद होने के पहले बेच दिया है, तो यह ट्रेड इंट्राडे (MIS) ट्रेड कहा जायेगा और इसमें आपको इंट्राडे की ब्रोकरेज लगेगी।

आपको ब्रोकरेज तभी लगेगी जब आपने पुरे शेयर्स या फिर कुछ शेयर्स अपनी CNC पोसिशन्स से स्क्वायर ऑफ किये हो,जो की इंट्राडे हो। नहीं तो ब्रोकरेज नहीं लगेगा।

इंट्राडे ब्रोकरेज की अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक कीजिये

आपको ब्रोकरेज शायद इसलिए लगा होगा क्योंकि आपने CNC प्रोडक्ट कोड में शेयर लेकर उसी दिन(इंट्राडे ट्रेडिंग) बेच दिए होंगे।

शून्य ब्रोकरेज शुल्क इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है में भी जोखिम नहीं कम, पहले चेक करें ब्रोकर का ट्रैक रिकॉर्ड

शून्य ब्रोकरेज शुल्क में भी जोखिम नहीं कम, पहले चेक करें ब्रोकर का ट्रैक रिकॉर्ड

शून्य ब्रोकरेज शुल्क भारत में स्टॉक ब्रोकिंग का एक आकर्षक मॉडल बनकर उभरा है। इसने इक्विटी निवेशकों के लिए लागत में कटौती करके पारंपरिक पूर्ण सेवा मॉडल को चुनौती दी है। इस मॉडल को खासतौर पर कोरोना संकट काल के दौरान ग्राहकों ने खासा पसंद किया है। शेयरों में निवेश के लिए कई कंपनियां शून्य ब्रोकरेज की पेशकश करती हैं, लेकिन इसमें जहां ग्राहकों का फायदा है तो जोखिम भी कम नहीं। ऐसे में इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है अच्छे ट्रैक रिकॉर्ड वाले ब्रोकर का साथ आपके लिए बेहद जरूरी है।

आढत का शुल्क

ब्रोकरेज शुल्क एक दलाल द्वारा लेनदेन निष्पादित करने या विशेष सेवाएं प्रदान करने के लिए शुल्क लिया जाता है। शुल्क बिक्री, खरीद, परामर्श और वितरण जैसी सेवाओं के लिए है। एक ब्रोकरेज शुल्क एक दलाल को लेनदेन निष्पादित करने के लिए क्षतिपूर्ति करता है। (यह आमतौर पर होता है, लेकिन हमेशा नहीं) लेन-देन मूल्य का प्रतिशत।

brokerage-fee

ब्रोकरेज इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है फीस उद्योग और ब्रोकर के प्रकार के अनुसार अलग-अलग होती है। अचल संपत्ति उद्योग में, ब्रोकरेज शुल्क आमतौर पर एक हैसमतल खरीदार, विक्रेता या दोनों से शुल्क या मानक प्रतिशत वसूला जाता है।

बंधक दलाल संभावित उधारकर्ताओं को बंधक ऋण खोजने और सुरक्षित करने में मदद करते हैं; उनकी संबद्ध फीस ऋण राशि के 1 प्रतिशत से 2 प्रतिशत के बीच है।

ब्रोकरेज शुल्क का भुगतान करने के प्रकार

ऑनलाइन ट्रेडिंग के उदाहरण पर विचार करें, यहां ब्रोकरेज शुल्क का भुगतान करने के प्रकार हैं:

शुल्क का भुगतान उस व्यापार के प्रतिशत के रूप में किया जाता है जो व्यापारी करता है। शेयरों की एक पूर्व निर्धारित संख्या तक कुछ न्यूनतम शुल्क का विकल्प हो सकता है।

प्रीपेड शुल्क

व्यापार करने के लिए ब्रोकर को अग्रिम रूप से एक पूर्व निर्धारित राशि का भुगतान किया जाता है। इसकी वैधता समय भी हो सकता है। लेकिन, जितनी अधिक राशि का अग्रिम भुगतान किया जाएगा, कुल शुल्क उतना ही कम होगा।

यह अवधारणा प्रीपेड शुल्क से अलग है क्योंकि ब्रोकर को एक बार में एक निश्चित राशि का भुगतान करना होगा। यानी ट्रेडिंग का आकार महत्वपूर्ण नहीं है।

अलग-अलग ब्रोकर अलग-अलग फीस लेते हैं। इसलिए, आवश्यकता के आधार पर, लाभ प्राप्त करने के लिए सही विधि और सही विधि का चयन करना आवश्यक है।

You Might Also Like

Get it on Google Play

AMFI Registration No. 112358 | CIN: U74999MH2016PTC282153

Mutual fund investments are subject to market risks. Please read the scheme information and other related documents carefully before investing. Past performance is not indicative of future returns. Please consider your specific investment requirements before choosing a fund, or designing a portfolio that suits your needs.

इंट्रा-डे, लंबी अवधि का ट्रेड इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ब्रोकरेज शुल्क क्या है क्या है और इनके चार्जेज़ क्या होते हैं? आसान शब्दों में समझिए सारी बात

इंट्रा-डे, लंबी अवधि का ट्रेड क्या है और इनके चार्जेज़ क्या होते हैं? आसान शब्दों में समझिए सारी बात

स्‍टॉक एक्‍सचेंजों में शेयरों की ट्रेडिंग कई प्रकार की होती है. इनमें दो सबसे ज्यादा प्रचलित तरीके इंट्रा-डे ट्रेड और डिलीवरी ट्रेड के हैं. इनके अपने-अपने फायदे और नुकसान हैं और ये अलग-अलग तरह के लोगों के लिए मुफीद होती हैं. आज हम आपको ट्रेडिंग के इन्ही दोनों तरीकों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं.

स्‍टॉक एक्‍सचेंज में एक ही दिन में शेयर की खरीद और बिक्री दोनों करने वाले सौदों को इंट्रा डे ट्रेडिंग कहते हैं. इसमें शेयर खरीदा तो जाता है, लेकिन उसका मकसद निवेश करना यानी शेयर को अपने पास रखना नहीं, बल्कि उसी दिन शेयर की कीमत में होने वाले उतार-चढ़ाव से मुनाफा कमाना यानी प्रॉफिट बुकिंग करना होता है.

रेटिंग: 4.69
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 824
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *