शेयर बाज़ार के प्रकार

Platform ऐप

Platform ऐप
Key Points

UMANG App Download | UMANG App ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, लॉगिन, सर्विसेज

UMANG App Download करे और उमंग योजना में रजिस्ट्रेशन करे एवं उमंग ऐप पर लॉगिन प्रक्रिया व Platform ऐप सर्विसेज लिस्ट देखे | जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं भारत सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की सेवाएं online उपलब्ध करवाई जा रही है। जिससे कि देश के नागरिकों द्वारा सभी सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके। हाल ही में भारत सरकार द्वारा UMANG App Platform ऐप launch किया गया है। इस ऐप के माध्यम से विभिन्न सरकारी सेवाएं एक platform पर प्रदान की जाएंगी। इस लेख के माध्यम से आपको उमंग एप 2022 का पूरा ब्यौरा प्रदान किया जाएगा। आप इस लेख को पढ़कर इस app को download करने की प्रक्रिया से लेकर online registration करने की प्रक्रिया से अवगत हो सकेंगे। इसके अलावा आपको सभी services की सूची भी प्रदान की जाएगी। तो आइए जानते हैं कैसे UMANG App Download करें एवं इसका लाभ प्राप्त करें।

UMANG App Download

UMANG App Download

भारत सरकार द्वारा उमंग (unified mobile application for new age governance) app launch किया गया है। इस app को भारत में mobile governance को चलाने के लिए launch किया गया है। उमंग ऐप के माध्यम से भारतीय नागरिकों को केंद्र से लेकर स्थानीय सरकारी निकायों तक की अखिल भारतीय e-governance सेवाओं का उपयोग करने के लिए एकल मंच प्रदान किया जाएगा। इस UMANG App को electronic और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय और national e-governance division द्वारा विकसित किया गया है। इस ऐप के माध्यम से भारत के नागरिक विभिन्न सेवाओं को एक platform पर प्राप्त कर सकेंगे। जिससे कि उनके जीवन स्तर में सुधार आएगा।

इसके अलावा इस ऐप के संचालन से देश के नागरिक को विभिन्न सेवाओं का उपयोग करने के लिए किसी भी सरकारी कार्यालय में जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। जिससे कि समय और पैसे दोनों की बचत होगी। इसके अलावा प्रणाली में पारदर्शिता भी सुनिश्चित की जा सकेगी।

उमंग ऐप का उद्देश्य

UMANG App को भारत सरकार द्वारा सभी सरकारी सेवाओं को एक platform पर प्रदान करने के उद्देश्य से launch किया गया है। इस app के माध्यम से अब देश के नागरिकों को सरकारी सेवाएं प्राप्त करने के लिए अलग-अलग app का प्रयोग नहीं करना पड़ेगा एवं ना ही किसी सरकारी कार्यालय में जाना पड़ेगा। इस app के माध्यम से समय और पैसे दोनों की बचत होगी तथा प्रणाली में पारदर्शिता भी सुनिश्चित की जा सकेगी। उमंग ऐप को electronic और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय और national e-governance division द्वारा विकसित किया गया है। इस ऐप के माध्यम से देश के नागरिकों के जीवन स्तर में भी सुधार किया जा सकेगा।

रजनीकांत ने लॉन्च किया सोशल मीडिया ऐप Hoote, जानिए क्या कर पाएंगे आप?

Hoote ऐप लॉन्च कर दिया गया है. इस वॉइस आधारित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में रजनीकांत की बेटी सौंदर्या को-फाउंडर हैं.

Hoote ऐप लॉन्च कर दिया गया है. इस वॉइस आधारित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में रजनीकांत की बेटी सौंदर्या को-फाउंडर हैं.

Hoote ऐप लॉन्च कर दिया गया है. इस वॉइस आधारित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में रजनीकांत की बेटी सौंदर्या को-फाउंडर हैं. इस प् . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : October 26, 2021, 11:09 IST

नई दिल्ली. सुपरस्टार रजनीकांत ने अपनी बेटी का सोशल सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म Hoote लॉन्च कर दिया है. इस वॉइस आधारित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में रजनीकांत की बेटी सौंदर्या को-फाउंडर हैं और उनके साथ हैं अम्टेक्स (Amtex) के सीईओ सनी पोकाला. इसे लॉन्च करने के बाद रजनीकांत ने ट्वीट किया ‘Hoote – Voice Platform ऐप based social media platform, from India for the world.’ मतलब कि Hoote एक वॉइस आधारित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है जो भारत की तरफ से विश्वभर के लिए है.
इस प्लेटफार्म पर आप 60 सेकंड का लाइव वॉइस रिकॉर्डिंग अपलोड कर सकते हैं या फिर पहले से रिकॉर्डिंग कोई वॉइस अपलोड की जा सकती है. सोमवार को दिल्ली में दादा साहेब फाल्के अवार्ड लेने के बाद सुपरस्टार रजनीकांत ने कहा कि इस ऐप को लॉन्च करके भी बहुत खुश हैं.

रजनीकांत ने कहा कि लोग अब अपने विचारों और शुभकामनाओं को अपनी Platform ऐप आवाज के जरिए एक्सप्रेस कर पाएंगे. बिल्कुल उसी तरह जैसे कि वह अपनी पसंद की भाषा में लिखते हैं. सुपरस्टार की बेटी सौंदर्या ने एनडीटीवी से बात करते हुए कहा कि सोशल मीडिया का फ्यूचर वॉइस है और मैं इस चीज में बहुत मजबूती से भरोसा करती हूं. सौंदर्या ने कहा कि Hoote पर लोग अपने विचारों और भावनाओं को किसी भी समय कहीं से भी किसी भी भाषा में एक्सप्रेस कर सकते हैं.

क्या खास है Platform ऐप इस ऐप में
Hoote के साथ आठ भाषाओं का सपोर्ट है जिनमें भारतीय और विदेशी दोनों शामिल हैं. Hoote में भारतीय भाषा के तौर पर तमिल, हिंदी, तेलूगु, मराठी, मलयालम, कन्नड़, बंगाली और गुजराती का सपोर्ट है. Hoote को इस तरीके से डिजाइन किया गया है कि यूजर्स बिना कुछ टाइप किए बोलकर मैसेज भेज सकेंगे. मतलब ये कि Hoote एक वॉइस Platform ऐप नोट एप है. एक बार वॉइस नोट रिकॉर्ड करने के बाद यूजर्स उसमें अपने अनुसार म्यूजिक और तस्वीरें जोड़ पाएंगे.

Hoote एप को गूगल प्ले-स्टोर से मुफ्त में डाउनलोड किया जा सकता है. एप को इस्तेमाल करने से पहले रजिस्ट्रेशन करना होगा. एप में यूजर्स रजनीकांत, गौतम गंभीर, न्यूज चैनल, राजनेता जैसे सेलेब्रिटी को फॉलो कर सकेंगे. एप में मौजूद वॉइस नोट को आसानी से प्ले और पॉज़ किया जा सकेगा. इसमें लाइक, री-पोस्ट और री-शेयर जैसे विकल्प मिलेंगे.

Hoote एप के यूजर्स अधिकतम 60 सेकेंड का वॉइस नोट रिकॉर्ड कर सकेंगे. रिकॉर्डिंग के बाद कैप्शन, बैकग्राउंड म्यूजिक और इमेज एड किए जा सकेंगे. म्यूजिक के लिए इमोशन, इनवायरमेंटल, नेचर, रिलीजनल और नेटिव जैसे विकल्प मिलेंगे. Hoote एप में कॉमेंट बंद करने का भी विकल्प है. कैप्शन के लिए अधिकतम 120 शब्द का विकल्प मिलेगा.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

What is Bulli Bai App: क्‍या है Github प्‍लेटफार्म जहां विवादित ऐप लॉन्‍च हो रहे हैं, जानिए कैसे काम करता है?

Bulli Bai App

What is Bulli Bai App: सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनों से इस ऐप की काफी चर्चा हो रही है। कहा जा रहा है कि ये ऐप मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ नफरत फैला रहा है। हालांकि, सरकार ने इसे अब बैन कर दिया है और अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कर ली गई है। वहीं इस मामले पर AIMIM चीफ असुदद्दीन ओवैसी ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि ये शर्मनाक है। आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। आइए जानते हैं आखिर इस ऐप में ऐसा क्या था ?

पहले से बदनाम है ये प्लेटफार्म

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस ऐप को Github नाम के एक प्लेटफार्म पर लाया गया था। यह प्लेटफार्म पहले से ही बदनाम है। पहले भी इस प्लेटफॉर्म से नफरत फैलाने वाले ऐप लॉन्च किए जा चुके हैं। Bulli Bai से पहले Sulli deal नाम का एक ऐप भी काफी चर्चाओं में था। इस ऐप के माध्यम से बड़ी संख्या में मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें शेयर की गईं थी और उनकी नीलामी करने की बात कही गई थी

हालांकि, बवाल मचने पर केंद्रीय सूचना और तकनीक मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि गिटहब प्लेटफॉर्म से उस ऐप को ब्लॉक कर दिया गया है। इसके अलावा कम्प्यूटर इमरजेंसी रेस्पॉन्स Platform ऐप टीम और पुलिस कार्रवाई भी कर रही हैं।

क्‍या-क्‍या है विवादित ऐप Bulli Bai में?

Bulli Bai ऐप पर खासतौर पर मुस्लिम महिलाओं को निशाना बनाया जा रहा है। इस ऐप को खोलने पर यूजर को इन्‍हीं महिलाओं की अलग-अलग तस्‍वीरें दिखती हैं। फिर यूजर इनमें से एक महिला की तस्‍वीर को Bulli Bai of the day चुनता है। इसके बाद उस महिला की बोली लगाई जाती है। बोली लगाने के साथ ही पोस्‍ट में #BulliBai भी लिखा जाता है। यह दिनभर ट्रेंड करता है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस ऐप पर खासतौर पर उन मुस्लिम महिलाओं को टार्गेट किया जा रहा है जिनकी समाज में अपनी पहचान Platform ऐप है और सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म पर नि‍र्भीकता के साथ अपनी बात रखती हैं।

Bulli Bai की तरह की काम करने वाला एक और ऐप Sulli deals करीब 6 माह पहले आया था। इसका खुलासा जुलाई में हुआ था। जब ऐप के कारण ट्वीटर पर ‘डील्‍स ऑफ द डे’ ट्रेंड करने लगा था। इस मामले में दिल्‍ली पुलिस के FIR दर्ज करने के बाद GitHub को अपने प्‍लेटफार्म से Sulli deal app को हटाना पड़ा था।

कैसे चर्चा में आया यह मामला?

बता दें कि शनिवार को एक महिला जर्नलिस्‍ट ने इस मामले को सोशल मीडिया पर उठाते हुए आपबीती साझा की। उन्‍होंने पोस्‍ट के जरिए बताया कि कैसे लोग उन्‍हें मानसिक रूप से प्रताड़ि‍त कर रहे हैं। Bulli Bai ऐप ने महिला जर्नलिस्‍ट की फोटो भी अपने प्‍लेटफार्म पर शेयर की है। इनके लिए लोग भद्दे कमेंट का प्रयोग कर रहे Platform ऐप हैं। महिला ने अपनी पोस्‍ट में जो स्‍क्रीनशॉट शेयर किया है उसका यूआरएल bullibai.github.Platform ऐप io है, जो फिलहाल डिएक्‍ट‍िवेट कर दिया गया है। महिला पत्रकार की शिकायत पर सायबर पुलिस स्‍टेशन में FIR दर्ज कर ली गई है।

क्‍या है Github प्‍लेटफार्म जहां विवादित ऐप लॉन्‍च हो रहे?

आसान भाषा में समझें तो GitHub एक इंटरनेट होस्टिंग प्‍लेटफार्म है। जहां पर ऐप और सॉफ्टवेयर को डेवलप और लॉन्‍च किया जाता है। यह एक ओपन प्‍लेटफार्म में जहां यूजर को कई तरह के ऐप मिलते हैं। यह प्‍लेटफार्म यूजर्स को ऐप बनाने और उसे साझा करने की सुविधा देता है। इसकी शुरुआत 2008 में अमेरिका के सैनफ्रांसिस्‍को में हुई थी। वर्तमान में इसके सीईओ थॉमस डोमके हैं।

हाल ही में लॉन्च किया गया 'योगो लोकेटर ऐप' लोगों को _________ का पता लगाने में मदद करने के लिए है।

Key Points

रेटिंग: 4.73
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 852
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *